back

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (एफएक्यू)

कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न(एफएक्यू)

  1. कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग क्या होती है?

    भारतीय स्टेट बैंक की कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग एक ऐसा चैनल है जिसमें कारपोरेट ग्राहक (व्यक्तिगत ग्राहक को छोड़कर कोई फर्म, कंपनियाँ, ट्रस्ट, भागीदार, मालिकाना हक रखने वाले प्रतिष्ठान आदि) इंटरनेट की सामर्थ्य और सुविधा की सहायता से कहीं भी और कभी भी ऑनलाइन बैंकिंग कार्य आसानी से कर सकते हैं।

  2. कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा का कौन-कौन उपयोग कर सकते हैं?

    कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग के लिए व्यक्तिगत ग्राहक को छोड़कर कोई अन्य चाहे वह किसी एक व्यक्ति का कोई उद्यम, छोटा कारोबारी उद्यम, फर्म, ट्रस्ट, संस्था, सरकारी संगठन या बड़ा समूह हो कारपोरेट ग्राहक ही माना जाएगा। कोई कारपोरेट जिसका भारतीय स्टेट बैंक की किसी शाखा में खाता चल रहा हो, कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा का उपयोग कर सकता है।

  3. कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग साइट का उपयोग कैसे किया जा सकता है?

    retail.onlinesbi.com पर एसबीआई की ऑनलाइन बैंकिंग साइट देखें और 'Corporate Banking' टैब पर क्लिक करके कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग होम पेज खोलें।

  4. क्या एसबीआई की सभी शाखाएँ कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग सुविधा उपलब्ध करा सकती हैं?

    हाँ। कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा देश भर में एसबीआई की सभी शाखाओं द्वारा उपलब्ध कराई जाएगी।

  5. क्या कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा व्यक्तिगत (वैयक्तिक बैंकिंग) ग्राहकों को भी उपलब्ध कराई जा सकती है?

    नहीं। कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग के नाम से ही जैसे ज्ञात होता है केवल कारपोरेट ग्राहकों (व्यक्तिगत ग्राहकों को छोड़कर) के लिए ही उपलब्ध है। व्यक्तिगत ग्राहकों के लिए रिटेल इंटरनेट बैंकिंग सुविधा अलग से उपलब्ध है।

  6. मैं इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा का अपने बचत बैंक खाते/चालू खाते में व्यक्तिगत तौर पर उपयोग कर रहा हूँ। कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग और उसमें क्या अंतर है?

    रिटेल इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग केवल एक व्यक्ति कर सकता है जबकि कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग (खाता प्लस, व्यापार और विस्तार) का उपयोग अनेक उपयोगकर्ताओं (यूज़र्स) द्वारा कारपोरेट की आवश्यकतानुसार अलग-अलग अधिकारों के साथ किया जा सकता है। कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग में कारपोरेट को यह अधिकार रहता है कि वह अपने उपयोगकर्ताओं को विवेकाधिकार उपयोग की अनुमति दे सके और बैंकिंग लेनदेन को ऑनलाइन अनुमत कर उनकी प्रगति पर नजर रख सके।

  7. हमारा नेट बैंकिंग खाता कितना खतरों से मुक्त/सुरक्षित है?

    एसबीआई का इंटरनेट बैंकिंग पोर्टल, retail.onlinesbi.com एक अत्यंत सुरक्षित, वेरीसाइन द्वारा प्रमाणित साइट है और इसमें लेनदेन का डेटा एक एसएसएल मीडियम(256-bit SSL tunnel) के जरिये कूटबद्ध करके भेजा जाता है। यह मीडियम इंटरनेट पर सुरक्षा के उच्चतम स्तर वाला है। एडवांस्ड ईवी-एसएसएल सर्टिफिकेट वेबसाइट को अधिप्रमाणित किए जाने का प्रमाण होता है। यह उपयोगकर्ताओं को अनधिकृत साइटों पर जाने से बचाता है।

  8. कारपोरेट अलग अलग आकार-प्रकार के - छोटी एक व्यक्ति वाली संस्था या बड़ा समूह हो सकता है। क्या भारतीय स्टेट बैंक हम सभी को नेट बैंकिंग की सुविधाएँ देता है?

    हाँ, भारतीय स्टेट बैंक में हम विभिन्न कारपोरेटों की बैंकिंग आवश्यकताओं को उनके आकार-प्रकार के अनुरूप समझते हैं। इसलिए हमने अलग-अलग समूहों की आवश्यकताओं के अनुरूप अनेक प्रकार के इंटरनेट बैंकिंग उत्पाद तैयार किए हैं। आप अपनी आवश्यकता के अनुसार निम्नलिखित में से सर्वश्रेष्ठ उत्पाद चुन सकते हैं।

    1. खाता - यह उत्पाद ऐसे एकल उपयोगकर्ताओं (यूज़र्स) द्वारा जानकारी लिए जाने के लिए तैयार किया गया है, जो कोई छोटी फर्में या संस्थाएँ हैं। ये ऐसी फर्में या संस्थाएँ हैं, जो एसबीआई की केवल एक शाखा में खाता रखे हुए हैं और केवल ऑनलाइन जानकारी प्राप्त करना तथा खाता विवरण डाउनलोड करना चाहती हैं। इस उत्पाद में ऑनलाइन लेनदेन नहीं किए जा सकते।
    2. खाता प्लस - इस उत्पाद का प्रयोग अनेक उपयोगकर्ताओं द्वारा जानकारी लिए जाने के लिए किया जा सकता है। यह थोड़ी बड़े आकार वाली फर्मों और संस्थाओं के लिए है जो एसबीआई की बहुत सी शाखाओं के साथ बैंकिंग करती हैं। इसमें ऐसे संगठन के अनेक उपयोगकर्ताओं के लिए जानकारी लेने की सुविधा उपलब्ध कराई जाती है। इसमें ऑनलाइन लेनदेन की सुविधा उपलब्ध नहीं है।
    3. सरल - यह एकल उपयोगकर्ता द्वारा लेनदेन के लिए तैयार किया गया एक सरलीकृत उत्पाद है, जो अकेली मालिकाना हक रखने वाली संस्थाओं, बहुत छोटे उद्यमों या व्यक्तिगत कारोबारियों के लिए खास तौर से उपलब्ध कराया गया है। ऐसी संस्थाएँ, उद्यम या कारोबारी के लिए है जो अपने कारोबारी खातों में ऑनलाइन लेनदेन की सुविधा चाहते हैं। इस उत्पाद में उपयोगकर्ता को लेनदेन के अधिकार उपलब्ध रहते हैं। इसमें अपने या अन्य पार्टी के ऐसे खातों में पैसा ट्रांस्फर करने की सुविधा दी गई है जिनमें प्रति दिन रु. 5 लाख तक का लेनदेन किया जा सकता है। इसमें अंत: और अंतर बैंक दोनों प्रकार के लेनदेन किए जा सकते हैं।
    4. व्यापार - यह उत्पाद ऐसे अनेक उपयोगकर्ताओं द्वारा लेनदेन किए जाने के लिए है, जो छोटे और मझौले उद्यम और संगठन हैं और जिनका खाता एसबीआई की किसी एक शाखा में ही है और जो अपने उपयोगकर्ताओं को विवेकाधिकार प्रयोग/लेनदेन का अधिकार देना चाहते हैं। कारपोरेट खाता एड्मिनिस्ट्रेटर अन्य कारपोरेट उपयोगकर्ता सृजित कर सकता है और विभिन्न खातों में उन्हें अधिकतम रु. 50.00 लाख प्रति लेनदेन करने का अधिकार दे सकता है। प्रति दिन लेनदेन के लिए कोई संख्या निर्धारित नहीं होगी।
    5. विस्तार - यह बड़े और बहुत बड़े कारपोरेटों, सरकारी संगठनों और संस्थाओं के लिए एक परिपूर्ण इंटरनेट बैंकिंग उत्पाद है। इस सुविधा में अनेक उपयोगकर्ता विभिन्न शाखाओं में विवेकाधिकार प्रयोग/लेनदेन के अधिकारों का प्रयोग कर सकते हैं। कारपोरेट एड्मिनिस्ट्रेटर अन्य उपयोगकर्ता सृजित करके उन्हें अधिकार सौंप सकते हैं जिससे वे प्रति दिन अधिकतम रु. 500.00 करोड़ तक के लेनदेन कर सकते हैं। प्रति दिन लेनदेन के लिए कोई संख्या निर्धारित नहीं होगी।
  9. खाता और खाता प्लस में क्या अंतर है? नाम एक समान लगते हैं।
    1. खाता कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग के तहत एकल उपयोगकर्ता द्वारा जानकारी लेने की एक सुविधा है। एक ही ग्राहक संख्या से जुड़े खाते इस सुविधा में देखे जा सकते हैं। इन्हें अन्य उत्पादों जैसे व्यापार या विस्तार के रूप में नहीं बढ़ाया जा सकता।
    2. खाता प्लस अनेक उपयोगकर्ताओं द्वारा जानकारी लिए जाने के लिए उपलब्ध कराई गई एक सुविधा है। यह उन कारपोरेटों के लिए है जिनके अनेक उपयोगकर्ता हैं और जो एसबीआई की एक से अधिक शाखा के साथ बैंकिंग करते हैं। इसमें अनेक खाता संख्या के तहत खोले गए खातों को एक कारपोरेट आईडी के साथ जोड़ा जा सकता है। इसके अलावा, कारपोरेट एड्मिनिस्ट्रेटर उपयोगकर्ताओं को खाते देखने और खाता विवरण डाउनलोड करने के अधिकार दे सकता है।
  10. हम कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग के लिए कैसे आवेदन कर सकते हैं? हमें इसके फॉर्म कहां से मिलेंगे?

    आपको एसबीआई की उस शाखा से संपर्क करना होगा जहाँ ऊपर प्रश्न सं. 8 में उल्लिखित कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग को विभिन्न प्रकार की सुविधाओं में से किसी एक का उपयोग करने के लिए आप अपना खाता चला रहे हैं। विभिन्न उत्पादों के लिए आवश्यक रजिस्ट्रेशन फॉर्म हमारी ऑनलाइन बैंकिंग वेबसाइट retail.onlinesbi.com में उपलब्ध कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग के होम पेज में टॉप पर दिए गए "Registration Forms" लिंक से डाउनलोड किए जा सकते हैं। विधिवत भरे हुए और बोर्ड रेजोल्यूशन संलग्न फॉर्म जहां आवश्यक हो उस शाखा में प्रस्तुत किए जा सकते हैं।

  11. अनेक उपयोगकर्ता उत्पाद-खाता प्लस, व्यापार और विस्तार में किन किन की विभिन्न भूमिकाएँ होंगी?

    कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग में जिन-जिन की भूमिका हो सकती है, उनका उल्लेख नीचे किया गया है:

    1. रेग्यूलेटर- विस्तार सुविधा में रेग्यूलेटर की भूमिका खास तरह की होती है। वह कारपोरेट का एक्जीक्यूटिव कंट्रोलर होता है। वह कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग में कारपोरेट के पूरे प्रोफाइल का निर्धारण करता है। वह कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग में कोई खाता न तो देख सकता है और न ही उस खाते में लेनदेन कर सकता है।
    2. एड्मिनिस्ट्रेटर - एड्मिनिस्ट्रेटर की भूमिका खाता प्लस, व्यापार और विस्तार में अनिवार्य है। उसके पास पूरा मैनेजमेंट कंट्रोल रहता है। वह अन्य उपयोगकर्ताओं का सृजन करता है और कारपोरेट खातों का लेनदेन करने का उन्हें अधिकार देता है। वह इन खातों में लेनदेन करने के वित्तीय अधिकार भी निर्धारित करता है।
    3. इन्क्वायरर - यह केवल उन्हीं खातों के विवरण देख और डाउनलोड कर सकता है जो एड्मिनिस्ट्रेटर द्वारा उसे आबंटित किए गए हैं।
    4. मेकर - वह लेनदेन शुरू करने वाला होता है। यह भूमिका व्यापार और विस्तार में लागू है।
    5. ऑथोराइजर - वह मेकर द्वारा शुरू किए गए लेनदेन अधिकृत (ऑथोराइज) करता है। उसके अधिकृत करने के अधिकार एड्मिनिस्ट्रेटर द्वारा निर्धारित किए गए होते हैं। यह भूमिका व्यापार और विस्तार में लागू है।
    6. अपलोडर - यह व्यापार और विस्तार में एक वैकल्पिक भूमिका है। यह थोक लेनदेन वाली फाइलें एक पूर्व निर्धारित फाइल स्ट्रक्चर में अपलोड करता है।
    7. ऑडिटर - यह विस्तार में एक वैकल्पिक भूमिका है। वह लेनदेन को दोबारा देखता है और लेनदेन के बाद उसकी लेखापरीक्षा भी करता है।
    8. अप्रूवर - यह भी विस्तार में एक वैकल्पिक भूमिका है। अप्रूवर अधिकृत करने के पहले लेनदेन की जांच करता है।
    9. सुपर इन्क्वायरर - इसे किसी शाखा भी में चलाए जा रहे कारपोरेट के किसी भी खाते के बारे में जानकारी लेने का अधिकार है। यह भूमिका भी वैकल्पिक है।
  12. शाखा द्वारा किन किन भूमिका धारकों का सृजन किया जाएगा?

    शाखा एक कारपोरेट आईडी का सृजन करेगी और निम्नांकित कारपोरेट भूमिका धारकों के लिए यूजर आईडी और पासवर्ड देगी।

    1. विस्तार : रेग्यूलेटर और एड्मिनिस्ट्रेटर
    2. व्यापार और खाता प्लस : एड्मिनिस्ट्रेटर
    3. खाता और सरल : उपयोगकर्ता (यूज़र)
  13. हमें शाखा द्वारा हमारा आवेदन पत्र स्वीकार कर लिए जाने के बाद तुरंत यूजर आईडी और पासवर्ड चाहिए। क्या तुरंत मिल सकता है?

    हाँ। यूज़र आईडी और पासवर्ड पूर्वमुद्रित किट द्वारा जारी किया जाएगा जो संबंधित उपयोगकर्ता (यूज़र) से पावती लेकर हाथोहाथ दिया जाता है।

  14. 1हमारे कारपोरेट के वरिष्ठ अधिकारी यूजरआईडी और पासवर्ड लेने के लिए शाखा में नहीं आ सकेंगे। क्या कोई विकल्प है?

    हाँ। यदि उपयोगकर्ता (यूज़र) पूर्व मुद्रित किट लेने के लिए शाखा में स्वयं नहीं आ सकता तो, यूज़र नेम और पासवर्ड डाक द्वारा अलग से भेजा जा सकता है।

  15. 1मेरी अकेले की मालिकाना हक वाली एक फर्म है। क्या मुझे कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा केवल जानकारी के अधिकारों के साथ मिल सकती है?

    हाँ। यदि आप कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग केवल जानकारी लेने के लिए करना चाहते हैं तो आप खाता सुविधा का उपयोग कर सकते हैं।

  16. मेरी अकेले की मालिकाना हक वाली फर्म है। क्या मुझे कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा लेनदेन के अधिकारों के साथ मिल सकती है?

    हाँ। आप 'सरल' सुविधा का उपयोग कर सकते हैं। जैसे ऊपर प्रश्न सं. 3 में बताया गया है। इस सुविधा का उपयोग एक अकेले उपयोगकर्ता के द्वारा लेनदेन के लिए किया जा सकता है।

  17. 'सरल' के जरिये लेनदेन की क्या-क्या सुविधाएँ उपलब्ध हैं?
    1. एकल उपयोगकर्ता द्वारा परिचालित किया जा सकता है, उपयोगकर्ता अनुकूल और सरल है।
    2. खातों में लेनदेन के अधिकार मिल जाते हैं।
    3. अपने खाते की जानकारी देखने और खाता विवरण डाउनलोड करने की सुविधा है।
    4. निम्नांकित खातों में पैसा ट्रांस्फर करने की सुविधा
      1. एसबीआई खाते(अपने स्वयं के खातों को छोड़कर) ---प्रति दिन कुल मिलाकर रु.5.00 लाख तक
      2. अन्य बैंक खाते (आरटीजीएस/एनईएफटी) --- प्रति दिन कुल मिलाकर रु.5.00 लाख तक
      3. मर्चेंट भुगतान --- प्रति दिन कुल मिलाकर रु.5.00 लाख तक

    एक दिन में इन तीन श्रेणियों में कुल मिलाकर रु. 5.00 लाख से अधिक राशि ट्रांस्फर नहीं की जानी चाहिए।

    1. आपके अपने खातों में राशि ट्रांस्फर करने की सुविधा।
      1. एक ही शाखा में रखे गए खातों में रु.25.00 लाख प्रति दिन तक
      2. अलग-अलग शाखाओं में रखे गए खातों में रु.10.00 लाख प्रति दिन तक
    2. डीडी जारी करने और बिल भुगतान के लिए अनुरोध करने की सुविधा - रु.5 लाख प्रति दिन तक (कुल मिलाकर रु. 5.00 लाख तक, अर्थात मांग ड्राफ्ट और बिल भुगतान की कुल राशि एक दिन में रु. 5.00 लाख से अधिक नहीं होनी चाहिए)
    3. आई क्लेक्ट भुगतान रु.10.00 लाख प्रति दिन तक।
    4. सप्लायर को भुगतान रु.25.00 लाख प्रति दिन तक।
    5. सरकारी विभागों की ई-नीलामी में शामिल होने की सुविधा रु.1.00 करोड़ प्रति दिन तक।
    6. सरकारी और गैर-सरकारी संस्थाओं को भुगतान करने की सुविधा। इसमें कर, सांविधिक देय राशियाँ जैसे ईएसआईसी, ईपीएफ ओल्टास, सीबीईसी और आइसगेट सहित रु.2 करोड़ प्रति दिन तक शामिल है।
    7. उपयोगकर्ता (यूज़र) हाइड/अनहाइड सुविधा के द्वारा अपने खातों को अपनी आवश्यकतानुसार देख सकता / सकती है।
    8. लेनदेन की स्थिति ऑनलाइन जानने की सुविधा।
    9. किसी बाद की तारीख के लिए लेनदेन नियत करने की सुविधा।
    10. खातों को छोटे नाम देने की सुविधा।
    11. लाभार्थी की हैसियत के अनुरूप सीमा निर्धारित करने की सुविधा।
    12. डीडी जारी करने और कर संबंधी लेनदेन करने के लिए अलग-अलग सीमाएँ निर्धारित करने की सुविधा।
  18. हम एक भागीदार फर्म हैं। हमारे लिए कौन सी कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग सुविधा उपयुक्त रहेगी?

    आप व्यापार सुविधा का उपयोग कर सकते हैं। इस सुविधा में लेनदेन के अधिकार भी मिल जाते हैं। यदि आप केवल खाते की जानकारी लेने के लिए कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग करना चाहते हैं तो आप खाता प्लस चुन सकते हैं।

  19. मैंने कुछ वर्ष पहले खाता सुविधा का उपयोग किया था। अब हमें लेनदेन अधिकारों की जरूरत है। हमें लेनदेन अधिकार कैसे मिल सकते हैं?

    खाता सुविधा के साथ अन्य सुविधाओं जैसे लेनदेन अधिकार की सुविधा को नहीं जोड़ा जा सकता। फिर भी, जिन कारपोरेटों ने खाता सुविधा का उपयोग किया है सरल, व्यापार या विस्तार के लिए रजिस्टर कर सकते हैं जो उनकी फर्म के गठन और जरूरतों पर निर्भर करेगा पर इसके लिए उन्हें खाता सुविधा बंद करने के लिए शाखा को अनुरोध करना होगा।

  20. हमने खाता प्लस सुविधा का उपयोग किया है। क्या हमें लेनदेन के अधिकार मिल सकते हैं?

    हां। खाता प्लस को बढ़ाकर व्यापार या विस्तार की सुविधा प्राप्त की जा सकती है। इन दिनों सुविधाओं में लेनदेन के अधिकार दिए जाते हैं। बढ़ाने की सुविधा शाखा द्वारा प्रदान की जाती है।

  21. कारपोरेट का एसबीआई की अनेक शाखाओं में खाता चल रहा है। क्या इन सभी को कारपोरेट इंटरनेट बैकिंग सुविधा से जोड़ा जा सकता है?

    हां। खाता प्लस (केवल जानकारी प्राप्त करने के लिए) और विस्तार सुविधा में विभिन्न शाखाओं में चल रहे एक कारपोरेट आईडी से जोड़ा जा सकता है।

  22. हमारी कंपनी की देश के विभिन्न भागों में यूनिटें हैं और हमारे एसबीआई की स्थानीय शाखाओं में खाते चल रहे हैं। क्या हम अपने सभी खातों के लिए इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग कर सकते हैं?

    हाँ। खाता प्लस (केवल खाते की जानकारी लेने के लिए) और विस्तार (लेनदेन करने के लिए), कारपोरेट अनेक एडमिन विकल्प चुन सकता है। विभिन्न यूनिटों के खाते उनके एड्मिनिस्ट्रेटरों से जोड़े जा सकते हैं।

  23. व्यापार और विस्तार में कौन कौन सी सुविधाएँ उपलब्ध हैं?

    निम्नलिखित सुविधाओं की प्राप्ति/लेनदेन हमारे उपर्युक्त लेनदेन उत्पादों के जरिये किए जा सकते हैं

    1. एसबीआई में अपने या थर्ड पार्टी खातों में पैसा ट्रांस्फर करने की सुविधा (इंटरा बैंक फंड ट्रांस्फर करने की सुविधा)
    2. आरटीजीएस/एनईएफटी (इंटर बैंक फंड ट्रांस्फर) के जरिये अन्य बैंकों के खातों में पैसा ट्रांस्फर करना।
    3. ड्राफ्ट जारी करने के लिए अनुरोध
    4. रजिस्टर्ड सप्लायरों को भुगतान
    5. विभिन्न कर भुगतान (प्रत्यक्ष, अप्रत्यक्ष और राज्य)
    6. लेनदेन के लिए तारीख तय कर देने की सुविधा
    7. प्री पेड कार्डों का टॉप अप
    8. डीमैट होल्डिंग स्टेटमेंट देखना और डाउनलोड करना
    9. एमआईएस /रिवर्स फाइल सुविधा (रिपोर्टें तैयार करना)
    10. इंटरा और इंटर बैंक लाभार्थियों आदि को एक साथ वेतन, कर, प्री पेड कार्ड टॉप अप, बिल भुगतान करने और पैसा भेजने के संबंध में अपलोड करने की सुविधा
    11. ई-कलेक्शन सुविधा
    12. पैसा सीधे खाते में डेबिट करने की सुविधा (पुल मोड)
    13. इलेक्ट्रॉनिक डीलर और वेंडर फिनैंस
    14. एएसबीए के जरिये आईपीओ निवेश सुविधा
    15. ‘करेंसी फीचर्स’ की ऑनलाइन ट्रेडिंग की सुविधा
    16. ईपीएफ में अंशदान करने के संबंध में ऑनलाइन भुगतान करने की सुविधा
  24. हमारी कंपनी में अकाउंट्स विभाग में अधिकारियों के कई तरह के पद हैं? क्या कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग में उन्हें अधिकार डेलीगेट किए जा सकते हैं? क्या हम अपनी कारपोरेट पॉलिसी के अनुसार उन्हें अधिकार डेलीगेट कर सकते हैं?

    हाँ। कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग कारपोरेटों को आंतरिक प्रयोक्ताओं द्वारा बैंकिंग खातों को उपयोगकर्ताओं द्वारा देखने को नियंत्रित करने की और बैंकिंग लेनदेन के लिए दी गई अनुमतियों की ऑनलाइन देखरेख करने और उनकी प्रगति पर नजर रखने की क्षमता प्रदान करती है।

  25. हम कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग में लेनदेन करने के अधिकारों का उपयोग करना चाहते हैं किंतु हम इसके साथ-साथ एक से अधिक व्यक्तियों को लेनदेन करने के लिए अधिकृत भी करना चाहते हैं। क्या कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग में ऐसा करना संभव है?

    हाँ। कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग में मेकर और चेकर का सुरक्षा की दृष्टि से बहुत महत्व है। लेनदेन के सृजन का बहुत महत्व है। लेनदेन का सृजन किसी एक उपयोगकर्ता मेकर द्वारा किया जाता है और इन्हें एक या अधिक अधिकृत करने वाले व्यक्तियों द्वारा अधिकृत किया जाता है।

  26. हम चाहते हैं कि लेनदेन प्रविष्ट किए जाने के बाद हमारा कोई एक अधिकारी आंतरिक नियंत्रण लेखा परीक्षा की दृष्टि से उसका (कार्योत्तर) अवलोकन करे। क्या कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग में इसके लिए प्रावधान है?

    हाँ। विस्तार सुविधा में ऑडिटर के लिए अलग से भूमिका का प्रावधान है, जो लेनदेन होने के बाद लेखा परीक्षा की दृष्टि से उसका अवलोकन कर सकता है। परंतु, यह एक वैकल्पिक सुविधा है।

  27. हमारे कारपोरेट के बड़ी संख्या में उपयोगकर्ता हैं। क्या हमें कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग में उपयोगकर्ता को संशोधित करने/हटाने/निष्क्रिय करने का विकल्प उपलब्ध है?

    हाँ। कारपोरेट एड्मिन को अधिकार है कि वह उपयोगकर्ताओं को संशोधित करे, हटा दे, निष्क्रिय कर दे और फिर से सक्रिय करे।

  28. क्या वेतन, वेंडर भुगतानों आदि के लिए थोक में लेनदेन अपलोड करना संभव है।

    हाँ। जिन कारपोरेट ने कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग में व्यापार या विस्तार सुविधाओं का उपयोग किया है, विभिन्न प्रकार के लेनदेन जैसे इंटर और इंटरा बैंक लेनदेन, वेतन भुगतान, विक्रेता भुगतान, बिल भुगतान, कर भुगतान आदि के संबंध में थोक में अपलोड करने की सुविधा का उपयोग कर सकते हैं।

  29. क्या एनईएफटी/आरटीजीएस लेनदेन फाइल अपलोड में किए जा सकते हैं?

    Yes. NEFT/ RTGS transactions can also be done in file mode.

  30. हाँ एनईएफटी/आरटीजीएस लेनदेन फाइल अपलोड में भी किए जा सकते हैं?

    Yes. Single debit and multiple credit file format is supported for intra bank, NEFT and RTGS transactions.

  31. क्या file con में सिंगल डेबिट मल्टीपल क्रेडिट रेकॉर्ड होते हैं?

    हाँ। सिंगल डेबिट मल्टीपल क्रेडिट फाइल फॉरमेट इंटरा बैंक, एनईएफटी और आरटीजीएस लेनदेन में सहायक हैं।

  32. क्या इन्क्रिप्टिड फाइलें अपलोड की जा सकती हैं?

    हाँ। इन्क्रिप्टिड फाइलें अपलोड करने में सिमेट्रिक कीज या असिमेट्रिक कीज (पीकेआई) का उपयोग किया जा सकता है।

  33. क्या हम कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग के जरिये अपने सप्लायरों को भुगतान कर सकते हैं?

    हाँ। कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग करके कारपोरेट रजिस्टर्ड सप्लायरों को ऑनलाइन भुगतान कर सकते हैं। डीलर कारपोरेट का एड्मिनिस्ट्रेटर कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग में संबंधित मेनू के जरिये सप्लायर को जोड़ सकता है। इसे सप्लायर कारपोरेट द्वारा अप्रूव किया जाना चाहिए। अप्रूव करने के बाद सप्लायर को भुगतान किया जा सकता है।

  34. कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग के जरिये कारपोरेट अपने डीलरों/ग्राहकों से ऑनलाइन भुगतान कैसे कलेक्ट कर सकते हैं?

    कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग के जरिये सीधे डेबिट करके डीलरों से देय राशियों का ई-कलेक्शन आसानी से किया जा सकता है। इसमें विस्तार सुविधा का उपयोग कर रहा सप्लायर कारपोरेट एसबीआई की विभिन्न शाखाओं में चलाए जा रहे डीलरों के खातों को सीधे डेबिट कर सकता है।

    इस सुविधा का उपयोग करने के लिए सप्लायर कारपोरेट को बैंक के साथ एक द्विपक्षीय करार करना होता है। इसके आधार पर डीलर सप्लायर को अधिकार देगा कि वह एक निश्चित सीमा और अवधि तक उसके खाते को डेबिट कर सकता है।

  35. हमारी एक शैक्षणिक संस्था है। क्या हम कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग के जरिये फीस कलेक्ट कर सकते हैं?

    हाँ। ऐसी प्रतिष्ठित शैक्षणिक संस्थाएँ जिन्होंने कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग की व्यापार या विस्तार सुविधाओँ के लिए रजिस्टर किया है, फीस कलेक्शन के लिए आई-कलेक्ट सुविधा का उपयोग कर सकती हैं।

  36. हमारी एक परमार्थ संस्था है। क्या हम कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग के जरिये दान वसूली कर सकते हैं?

    हाँ। ऐसी प्रतिष्ठित शैक्षणिक संस्थाएँ जिन्होंने कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग की व्यापार या विस्तार सुविधाओँ के लिए रजिस्टर किया है दान वसूली के लिए आई-कलेक्ट सुविधा का उपयोग कर सकती हैं।

  37. क्या गैर एजेंसी बैंक (एनएबी) जो कर संबंधी लेनदेन का कार्य करने के लिए अधिकृत नहीं हैं, अपने ग्राहकों के कर भेजने के लिए एसबीआई की कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग की सहायता ले सकते हैं?

    हाँ। गैर एजेंसी बैंक (एनएबी) विस्तार सुविधा के लिए रजिस्टर कर सकते हैं और कर भुगतान की राशि फाइल आधारित लेनदेन के रूप में भेज सकते हैं। कृपया नोट करें कि एनएबी कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग में कोई अन्य लेनदेन नहीं कर सकते।

सीमा शुल्क के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

एसबीआई कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग के जरिये प्रत्यक्ष करों (सीमा शुल्क) का भुगतान

इंटरनेट के जरिये अप्रत्यक्ष कर (सीमा शुल्क) का भुगतान :

  1. Customs e-payment Gateway देखने के लिए (https://epay.icegate.gov.in/epayment/locationAction) में Indirect Taxes (Customs) पर क्लिक करें।
  2. अपना इम्पोर्ट-एक्सपोर्ट कोड या ICEGATE द्वारा दी गई अपनी लॉगइन संबंधी जानकारी दें और अपनी वह लोकेशन सेलेक्ट करें जिसमें ग्राहक भुगतान देय है।
  3. आपको अपने अदा न किए गए चालानों की सूची दिखाई देगी।
  4. आप प्रदर्शित सूची से ये चालान सेलेक्ट करके एक बार में अनेक चालानों (अधिकतम 25 चालान तक) का भुगतान कर सकते हैं।
  5. आप अलग-अलग भी चालानों का भुगतान कर सकते हैं।
  6. भुगतान के लिए State Bank of India सेलेक्ट करें।
  7. आपके सामने OnlineSBI login पेज फिर से खुल जाएगा।
  8. अपना इंटरनेट बैंकिंग यूजर आईडी और पासवर्ड एंटर करें। यदि आपकी जानकारी स्वीकार्य है तो आप उस खाते को सेलेक्ट कर सकते हैं जिससे आप कर का भुगतान करना चाहते हैं।
  9. आपका लेनदेन ठीक से प्रोसेस हो जाने का बाद उस भुगतान की ई-रसीद प्रिंट करने के लिए एक लिंक दिया जाएगा।
  10. आपके सामने आइसगेट साइट की स्क्रीन फिर से प्रदर्शित होगी। यदि चालान का ठीक से भुगतान किया गया था तो आइसगेट साइट में लंबित चालानों की सूची प्रदर्शित नहीं होगी।
  11. आप onlinesbi.com में 'enquiries' टैब के तहत 'status enquiry' लिंक से बाद में ई-रसीद/पावती भी तैयार कर सकते हैं।

'process demo' के लिए, कृपया Corporate Internet Banking -> Click on SBI e-Tax -> Central Government Taxes -> ICEGATE (Indian Customs EDI gateway) में home page देखें और 'Click here for process demo' पर क्लिक करें।


अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न:

समस्या 1:

सीमा शुल्क का भुगतान करते समय बैंक पोर्टल पर यह एरर मेसेज प्राप्त हुआ कि : " Due to some technical problems, we are unable to process your request"

कारण :

  1. कारपोरेट एड्मिन द्वारा रूल सेट नहीं किया गया
  2. लेनदेन की राशि कारपोरेट एड्मिन द्वारा सेट रूल से अधिक है।

समाधान:

  1. OnlineSBI -> Manage Accounts -> Rules -> Select Account Number -> Enter Transaction Limit -> द्वारा कारपोरेट एड्मिन लॉगइन करें authorize type : Single or Joint -> Submit सेलेक्ट करें।
  2. अगले पेज पर Authorisers Name -> confirm सेलेक्ट करें।
  3. Accounts देखें -> Account Number सेलेक्ट करें -> view पर क्लिक करें -> संबंधित पेज का प्रिंट आउट लें और अपनी एसबीआई शाखा को उनके अप्रूवल के लिए प्रस्तुत करें।

समस्या 2:

आइसगेट में 'Unpaid challan' सूची में Transaction/s not completed, challan not available मेसेज आ रहा है।

कारण:

  1. कारपोरेट द्वारा आइसगेट पोर्टल में 'Challan' पर क्लिक करने किंतु ऑनलाइन लेनदेन पूरा नहीं करने के कारण ऐसा हुआ होगा।

समाधान:

  1. ऐसे चालान आइसगेट पोर्टल में 'Incomplete Transactions' सूची में चले गए होंगे। आइसगेट पोर्टल में 'Verify' लिंक पर क्लिक करें और 'Bank Reference Number' प्रविष्ट करने के लिए प्रदत्त बॉक्स में '0' (शून्य) प्रविष्ट करें। 'Verify' लिंक में क्लिक करने पर लेनदेन 'Unpaid Challans' में चला जाएगा।
  2. लेनदेन नए सिरे से प्रविष्ट करें।

समस्या 3:

ऑनलाइन भुगतान ठीक से हो गया किंतु आइसगेट पोर्टल अपडेट नहीं किया गया और चालान कारपोरेट को उपलब्ध नहीं हुआ।

कारण:

  1. एसबीआई और आइसगेट पोर्टलों को बीच कनेक्टिविटी की समस्या।

समाधान:

  1. भुगतान ठीक से हो जाने के बाद भी यदि चालान तैयार नहीं होता है तो संबंधित चालान आइसगेट पोर्टल में 'Incomplete transactions' सूची में चला जाता। कृपया 'Verify' टैब पर क्लिक करें। 'Bank Reference Number' प्रविष्ट करने के लिए प्रदत्त बॉक्स में इंटरनेट बैंकिंग रेफ्रेंस नंबर दें। 'Bank Reference Number' आपकी bank's e-Receipt/Acknowledgement में उपलब्ध होगा। आइसगेट पोर्टल अपडेट किया जाएगा और चालान तैयार हो जाएगा।
  2. यदि समस्या का समाधान नहीं होता तो आप इस प्रोसेस को ठीक से दोहरा दें।

सुरक्षित ऑनलाइन बैंकिंग पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

सुरक्षित ऑनलाइन बैंकिंग के विषय में जानकारी:

  1. स्टेट बैंक समूह आपकी व्यक्तिगत या वित्तीय जानकारी जैसे यूज़रनेम, लॉगइन / प्रोफाइल या लेनदेन पासवर्ड और पिन नंबर या क्रेडिट कार्ड नंबर जानने के लिए कभी ई-मेल नहीं भेजता है।
  2. इस तरह की जानकारी पूछने वाले ई-मेल, धोखाधड़ीपूर्ण होते हैं और इन्हें तुरंत डिलीट किया जाना चाहिए।
  3. आप व्यक्तिगत जानकारी प्रदान करने के लिए इनाम का वादा करने वाले ई-मेल के लालच में न फंसें और न ही ई-मेल द्वारा जानकारी न देने पर कार्रवाई की धमकी से डरें।
  4. धोखाधड़ीपूर्ण ई-मेल भेज कर वित्तीय जानकारी की चोरी करने के लिए किया गया कोई भी प्रयास तकनीकी रूप से 'फिशिंग' के रूप में जाना जाता है।

  5. फिशिंग के बारे में अधिक जानकारी

सुरक्षित ऑनलाइन बैंकिंग में निपुणता हासिल करना:

  1. कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग वेबसाइटhttps://corporate.onlinesbi.com/corporate/sbi_home.html का उपयोग अपने ब्राउज़र के एड्रेस बार में केवल यूआरएल टाइप करके करें: इस साइट का उपयोग करने के लिए किसी भी ई मेल संदेश में लिंक पर क्लिक न करें सुरक्षा संबंधी अधिक सावधानियाँ
  2. अगर आपको कोई संदिग्ध या धोखाधड़ीपूर्ण ई-मेल प्राप्त होता हैं, तो तुरंत हमें ई-मेल करें। report dot phishing at sbi dot co dot in.
  3. अगर आप गलती से किसी भी गोपनीय जानकारी को बता देते हैं तो तुरंत रिपोर्ट करें। report dot phishing at sbi dot co dot in.
  4. अगर आप बैंक या किसी विश्वसनीय संगठन से व्यक्तिगत जानकारी प्रदान करने के लिए इनाम का वादा करने वाले ई-मेल या ई-मेल द्वारा जानकारी न देने पर कार्रवाई की धमकी प्राप्त करते हैं तो तुरंत भारतीय स्टेट बैंक से संपर्क करें।

सुरक्षित ऑनलाइन बैंकिंग की सुविधाएँ

इंटरनेट बैंकिंग पोर्टल सुरक्षित बैंकिंग के लिए कई इनबिल्ट सुविधाएँ प्रदान करता है। आप प्रोफ़ाइल टैब में सुरक्षा विकल्पों का उपयोग कर सकते हैं:

  1. अपने व्यक्तिगत प्रोफ़ाइल को कस्टमाइज करें: आप अपने व्यक्तिगत प्रोफाइल में अपना प्रदर्शन नाम, मोबाइल नंबर और ई-मेल आईडी सेट कर सकते हैं। प्रदर्शन नाम स्वागत संदेश में प्रयोग किया जाता है। कृपया नोट करें कि यह सुविधा केवल लेनदेन आरंभकर्ता(मेकर) और प्राधिकृतकर्ता (ऑथराइजर) के लिए उपलब्ध है।
  2. मैनेज बेनिफिसियरी: आप भरोसेमंद तृतीय पक्षों (थर्ड पार्टी) को जोड़ सकते हैं जिनके खाते स्टेट बैंक समूह या अन्य बैंकों में हैं और जिन्हें आप कारपोरेट खातों से पैसा ट्रांस्फर कर सकते हैं। आप जब भी चाहें तृतीय पक्ष को संशोधित या डिलीट कर सकते हैं। कृपया ध्यान दें कि यह सुविधा केवल रेग्यूलेटर और एड्मिनिस्ट्रेटर के लिए उपलब्ध है। अगर आपका कारपोरेट चाहे तो इस सुविधा को लेनदेन निर्माताओं(मेकर) और प्राधिकृतकर्ता (ऑथराइजर) के लिए उपलब्ध कराया जा सकता है।
  3. हाई सिक्योरिटी इनेबल करें: एसएमएस आधारित उच्च सुरक्षा(हाई सिक्योरिटी) कंपनियों के खातों के लिए उपलब्ध कराई गई सुरक्षा का एक अतिरिक्त घेरा है। आपको यह सलाह दी जाती है कि आप प्रोफाइल अनुभाग में, इस सुविधा को सक्षम करें। आप जब भी खुद के या तृतीय पक्ष (छर्ड पार्टी) के खातों में पैसा भेजते हैं, डिमांड ड्राफ्ट जारी करते हैं या कर का भुगतान ऑनलाइन करते हैं तो आपको एसएमएस द्वारा एक उच्च सुरक्षा वाला पासवर्ड प्राप्त होता है। सौदे को पूरा करने के लिए इस पासवर्ड का उपयोग करने की आवश्यकता होती है।